ये daily अपडेट साइट है जो आपको रखे हर दिन अपडेट अनमोल विचार, अनमोल वचन, Hindi Stories,हिन्दी न्यूज़,सफलता की कहानियाँ,जनरल नॉलेज, Useful Article,देश-दुनिया की खबरें, Santhali Lyrics,Intresting जानकारी और कुछ Intresting Fact के बारे में भी कई जानकारी दूंगा तो बने रहिए हमारे साथ Thank You!!!

ब्रेकिंग न्यूज़

Sunday, 23 February 2020

ग्लोबल इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी इंडेक्स 53 देशों की सूची में भारत 40वें स्थान पर

ग्लोबल इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी इंडेक्स 53 देशों की सूची में भारत 40वें स्थान पर
ग्लोबल इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी इंडेक्स 53 देशों की सूची में भारत 40वें स्थान पर,santalivideos.com
                                                 image by- Insitute for Manufacturing

मेरिकी चैंबर आफ कॉमर्स के ग्लोबल इनोवेशन पॉलिसी सेंटर ( जीआईपीसी ) ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी की है । इस रिपोर्ट के अनुसार 53 देशों की सूची में भारत को 40वां स्थान मिला है । वहीं अमेरिका , ब्रिटेन , स्वीडन , फ्रांस और जर्मनी टॉप 5 देशों में शामिल हैं । पिछले साल भी ये देश टॉप 5 में शामिल थे । जीआईपीसी ने यह सूचकांक 45 संकेतकों पर तैयार किया है । इनमें पेटेंट , कॉपीराइट और व्यापार गोपनीयता का संरक्षण आदि शामिल है ।
यूजफुल नॉलेज ➡फिल्मफेयर अवार्ड 2020 की घोषणा
भारत की स्थिति
»  वर्ष 2020 के इस सूचकांक में भारत 38 . 46 % के स्कोर के साथ 40वें स्थान पर रहा जबकि वर्ष 2019 में 36 . 04 % के स्कोर के साथ भारत 50 देशों की सूची में 36वें स्थान पर था । " सूचकांक में शामिल दो नए देशों , ग्रीस और डोमिनिकन गणराज्य का स्कोर भारत से अच्छा है । फिलीपींस और यूक्रेन जैसे देश भी भारत से आगे हैं ।

» वर्ष 2019 में दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा कॉपीराइट उल्लंघन सामग्री की ऑनलाइन पहुंच को रोकने के | लिए डायनामिक इनजंक्शन का उपयोग किया गया था जिसकी वजह से कॉपीराइट से संबंधित दो संकेतकों में भारत का स्कोर बढ़ा है ।

भारत के स्कोर में सुधार के प्रमुख कारण
» ग्लोबल इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी इंडेक्स में भारत के स्कोर के बढ़ने का मुख्य कारण देश में इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी में इनोवेशन और क्रिएटिविटी में निवेश का बढ़ना है ।

»  सूचकांक के अनुसार भारत सरकार द्वारा जारी इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स पॉलिसी 2016 के पश्चात इनोवेशन और स्ट्रक्चरल इंवेस्टमेंट पर ध्यान केंद्रित किया गया है ।

»  वर्ष 2016 के बाद से भारत में पेटेंट और ट्रेडमार्क के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया में तेजी आई है । भारतीय इनोवेटर्स और क्रिएटर्स के बीच इंटेलेक्चअल प्रॉपर्टी राइट्स को लेकर जागरूकता बढ़ी है । साथ ही पेटेंट और ट्रेडमार्क के लिए रजिस्ट्रेशन करना अब आसान हो गया है ।

और भी यूजफुल नॉलेज के लिए ➡➡➡

No comments:

Post a comment

Thanks for comment